Wednesday, July 24, 2024
HomeReligion and Culture||महामृत्युंजय मंत्र(Mahamrityunjaya Mantra)||

||महामृत्युंजय मंत्र(Mahamrityunjaya Mantra)||

महामृत्युंजय मंत्र

महामृत्युंजय मंत्र हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण मंत्र है। यह मंत्र भगवान शिव की स्तुति करता है और मृत्यु को जीतने की शक्ति के लिए उनसे प्रार्थना करता है। इस मंत्र को यजुर्वेद के रूद्र अध्याय में पाया जाता है।

महामृत्युंजय मंत्र का शाब्दिक अर्थ है “मृत्यु को जीतने वाला”। इस मंत्र में भगवान शिव को तीन नेत्रों वाला, सुगंधित और जीवन का पोषण करने वाला बताया गया है। मंत्र में भगवान शिव से मृत्यु, रोग, भय और अन्य सभी कष्टों से मुक्ति देने की प्रार्थना की जाती है।

महामृत्युंजय मंत्र का जप करने से कई लाभ होते हैं। यह मंत्र शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। यह मंत्र तनाव, चिंता, अवसाद और अन्य मानसिक समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। यह मंत्र शारीरिक रोगों को दूर करने और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में भी मदद करता है।

महामृत्युंजय मंत्र का जप करने के लिए किसी विशेष विधि की आवश्यकता नहीं होती है। इसे किसी भी समय और किसी भी स्थान पर किया जा सकता है। हालांकि, मंत्र का जप करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। मंत्र का जप एक शांत और सुखद वातावरण में करना चाहिए। मंत्र का उच्चारण स्पष्ट और ध्यानपूर्वक करना चाहिए। मंत्र का जप 108 बार करने का प्रयास करना चाहिए।

महामृत्युंजय मंत्र का जप करने के लिए निम्नलिखित विधि का पालन किया जा सकता है:

  1. एक शांत और सुखद स्थान पर बैठ जाएं।
  2. अपने हाथों को जोड़कर ध्यान मुद्रा में बैठ जाएं।
  3. अपने मन को शांत करें और अपने सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।
  4. मंत्र का उच्चारण करें:

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

  1. मंत्र का जप 108 बार करें।

महामृत्युंजय मंत्र एक शक्तिशाली मंत्र है जो मृत्यु और अन्य सभी कष्टों से मुक्ति दिलाने में मदद कर सकता है। इस मंत्र का जप नियमित रूप से करने से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है।

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥

“हम भगवान शिव की पूजा करते हैं, जिनके तीन नेत्र हैं, जो सुगंधित हैं और हमारा पोषण करते हैं। जैसे फल शाखा के बंधन से मुक्त हो जाता है वैसे ही हम भी मृत्यु और नश्वरता से मुक्त हो जाएं।”

शास्त्र कहते हैं कि इस मंत्र का जाप करने से मरने वाले को भी जीवन मिल सकता है। जब रोग असाध्य हो जाए और कोई विकल्प न रहे, तो महामृत्युंजय मंत्र का जप ही एकमात्र विकल्प है, इस पूरी प्रकिया के दौरान इसका कम से कम सवा लाख बार जप करना चाहिए। इस मंत्र को जाप करते समय पूरी पूजा में शामिल होना चाहिए अगर आप इस मंत्र को किसी और के लिए जाप कर रहे हैं, तो हर बार पूजा के बाद पूजा के फूल को व्यक्ति के सिरहाने रखें। ऐसा करने से निश्चित रूप से लाभ मिलेगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments