Tuesday, February 27, 2024
HomeTechnologyकैसे डॉ. विजय भटकर ने बनाया भारत का पहला सुपरकंप्यूटर: इनकार से...

कैसे डॉ. विजय भटकर ने बनाया भारत का पहला सुपरकंप्यूटर: इनकार से क्रांति तक

आत्मनिर्भरता, नवाचार और एक तकनीकी दिग्गज के जन्म की कहानी

आइए इस लेख में जानते हैं कि कैसे डॉ. विजय भटकर ने बनाया भारत का पहला सुपरकंप्यूटर जब 1987 में अमेरिका ने भारत को सुपरकंप्यूटर बेचने से इनकार कर दिया था, जो कि उस समय उन्नत वैज्ञानिक अनुसंधान और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण था।

इससे भारत को एक बड़ा झटका लगा। शीत युद्ध की चिंताओं का हवाला देते हुए, इस महत्वपूर्ण तकनीक को एक विकासशील राष्ट्र के लिए बहुत शक्तिशाली माना गया था। लेकिन हताशा के आगे झुकने के बजाय भारत एक उल्लेखनीय आत्मनिर्भरता के सफर पर चल पड़ा, जिसका नेतृत्व किया दूरदर्शी वैज्ञानिक डॉ. विजय भटकर ने।

फौलादी संकल्प के धनी कंप्यूटर वैज्ञानिक भटकर ने हार स्वीकार करने से इनकार कर दिया। वह जानते थे कि भारत की वैज्ञानिक प्रगति इस अत्याधुनिक तकनीक तक पहुंच पर निर्भर करती है। अटूट संकल्प के साथ, उन्होंने सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग (सी-डैक) में प्रतिभाशाली इंजीनियरों और वैज्ञानिकों की एक टीम का नेतृत्व किया, एक ऐसा संगठन जिसे उन्होंने 1987 में सह-स्थापित किया था।

उनके सामने काम चुनौतीपूर्ण था। विदेशी तकनीक या विशेषज्ञता तक पहुंच के बिना खरोंच से सुपरकंप्यूटर बनाना माउंट एवरेस्ट पर आँख बंद करके चढ़ने के समान था। फिर भी, भटकर और उनकी टीम ने हार नहीं मानी। उन्होंने दिन-रात मेहनत की, चाय के प्यालों से उबरे और भारत को एक आत्मनिर्भर तकनीकी शक्ति बनाने के अपने जुनून से प्रेरित हुए। भटकर का नेतृत्व महत्वपूर्ण था। उन्होंने अपने संक्रामक उत्साह, सावधानीपूर्वक योजना और दृढ़ विश्वास के साथ अपनी टीम को प्रेरित किया।

भारत का पहला सुपरकंप्यूटर
भारत का पहला सुपरकंप्यूटर

अंत में, 1991 में, उनके कठिन प्रयासों को फल मिले। भारत के पहले सुपरकंप्यूटर, जिसे उपयुक्त रूप से PARAM (Parallel Algorithm for Machine Recognition) नाम दिया गया है, का दुनिया के सामने अनावरण किया गया। यह एक महत्वपूर्ण अवसर था, जिसने भारतीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए एक बड़ी छलांग लगाई। PARAM (पैरेलल एल्गोरिदम फॉर मशीन रिकॉग्निशन) के आगमन ने पश्चिमी तकनीकी श्रेष्ठता के मिथक को तोड़ दिया और यह साबित कर दिया कि भारत वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा कर सकता है।

PARAM की सफलता एक महत्वपूर्ण मोड़ था। इसने न केवल भारतीय वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं को सशक्त बनाया, बल्कि स्वदेशी प्रौद्योगिकी विकास के लिए राष्ट्रव्यापी जुनून को भी जगाया। PARAM ने कई उन्नत सुपरकंप्यूटरों का मार्ग प्रशस्त किया, उनमें से प्रत्येक अपने पूर्ववर्ती से अधिक शक्तिशाली था। आज, भारत एक संपन्न सुपरकंप्यूटिंग पारिस्थितिकी तंत्र का दावा करता है, जिसमें कई देशी मशीनें दुनिया के शीर्ष 500 सुपरकंप्यूटरों की सूची में शामिल हैं।

डॉ. विजय भटकर, इस क्रांति के शिल्पकार को अक्सर “भारतीय सुपरकंप्यूटिंग के पिता” के रूप में जाना जाता है। उनके समर्पण, दृष्टिकोण और नेतृत्व ने उच्च प्रदर्शन कंप्यूटिंग के क्षेत्र में भारत की उल्लेखनीय यात्रा की नींव रखी। फिर भी, अपने स्मारकीय योगदान के बावजूद, भटकर वैज्ञानिक हलकों के बाहर एक अपेक्षाकृत कम ज्ञात व्यक्ति हैं।

**हमारा सामूहिक उत्तरदायित्व है कि जो अग्रणी भारत के तकनीकी परिदृश्य को आकार देते हैं, उन्हें याद करें और उनका जश्न मनाएं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments